Oh me!

We are so small between the stars & so large against the sky. and lost in subway croud, I try to catch your eye …..

हे मेरी तुम!

February15

केदारनाथ अग्रवाल की कवितायेँ मुझपे जादू कर देती हैं। वे इतनी सुंदर होती हैं, की मन झंकृत हो उठता है। मसलन यह नमूना देखिये। कवि इसे अपनी octogenarian पत्नी के लिए लिखता है, और कितने कम शब्दों ( 27 शब्द मात्र!) में ही कितना कुछ कह जाता है॥

(http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=हे_मेरी_तुम_!.._/_केदारनाथ_अग्रवाल)

हे मेरी तुम !
बिना तुम्हारे–
जलता तो है
दीपक मेरा
लेकिन ऎसे
जैसे आँसू
की यमुना पर
छोटा-सा
खद्योत
टिमकता,
क्षण में जलता
क्षण में बुझता ।

( खद्योत = एक छोटी सी नाव जिसपे एक दीपक रखकर नदी में बहाया जाता है, हरिद्वार में प्रचलित)

posted under love, poem
2 Comments to

“हे मेरी तुम!”

  1. On February 16th, 2009 at 8:18 am Just scribble Says:

    loved this poem. share more such poems plz.

  2. On February 26th, 2009 at 7:57 pm bhaiyyu Says:

    Thank you madame!

    – Varun

Email will not be published

Website example

Your Comment:

 
  • Log in
  • Valid XHTML

best wedding dress designers knee length prom dresses long sleeved evening dresses Ralph Lauren Men's Polo Shirts Polo Ralph Lauren Outlet UK Ralph Lauren Women's Outlet ralph lauren outlet shopping Ralph Lauren Plus Size Outlet Cheap Polo Ralph Lauren replik uhren hublot